"जोदि तोर दक शुने केऊ ना ऐसे तबे एकला चलो रे" (बांग्ला: যদি তোর... - dofaq.co
तबे एकला चलो रे

"जोदि तोर दक शुने केऊ ना ऐसे तबे एकला चलो रे" (बांग्ला: যদি তোর...

wikipedia - 07 May 2021
"जोदि तोर दक शुने केऊ ना ऐसे तबे एकला चलो रे" (बांग्ला: যদি তোর ডাক শুনে কেউ না আসে তবে একলা চলো রে "यदि आपकी बात का कोई उत्तर नहीं देता है, तब अपने ही तरिके से अकेले चलो"[1]), सामान्यतः इसे एकला चलो रे से जाना जाता है, एक बंगाली देशभक्ति गीत है जिसे १९०५ में रबीन्द्रनाथ टैगोर ने लिखा था।[1]

What's New