1992 के विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में सामान्य मानव वीर्य का वर्... - dofaq.co
ईस्ट इण्डिया कम्पनी

1992 के विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में सामान्य मानव वीर्य का वर्...

wikipedia - 29 Oct 2020
1992 के विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में सामान्य मानव वीर्य का वर्णन करते हुए कहा गया है कि स्खलन के 60 मिनट के अंदर सामान्य मानव वीर्य 2 मिलीलीटर या इससे अधिक मात्रा में, 7.2 से 8.0 पीएच, हुआ करता है; शुक्राणु सांद्रता 20×106 स्पर्माटोजोआ/मि.ली. या अधिक होती है; प्रति स्खलन में शुक्राणु संख्या 40×106 स्पर्माटोजोआ या अधिक; आगे बढ़ते समय (ए और बी श्रेणी) 50% या उससे अधि की मृत्यु दर और तेज अग्रगति (श्रेणी ए) के समय 25% या अधिक मृत्यु दर हुआ करती है।[3]

What's New