बहुव्रीहि समास जिस समास के दोनों पद अप्रधान हों और समस्तपद के अर्थ के ... - dofaq.co
इलूमिनाती

बहुव्रीहि समास जिस समास के दोनों पद अप्रधान हों और समस्तपद के अर्थ के ...

wikipedia - 27 Sep 2020
बहुव्रीहि समास जिस समास के दोनों पद अप्रधान हों और समस्तपद के अर्थ के अतिरिक्त कोई सांकेतिक (वस्तु, व्यक्ति या पदार्थ) का बोध हो तो उसे बहुव्रीहि समास कहते हैं। उदाहरण: दशानन = दस है आनन जिसके (रावण) चन्द्रशेखर= चन्द्र है शिखर पर जिसके (शिव) चतुरानन: चार है आनन जिसके (ब्रह्मा

What's New